डूंगरिया बांध प्रभावित क्षेत्र में जबरन फसल काट रहे है बांध विरोधी ग्रामीण

किसानों में भय व्याप्त, अराजकता का माहौल निर्मित, प्रशासन ने नहीं की कोई अब तक कार्यवाही

 

जनपथ टुडे, डिंडोरी, 19 नवंबर 2020, प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम डूंगरिया निवासी चतुर सिंह पिता गोकुल सिंह जाति राठौर जिनकी कृषि भूमि बांध प्रभावित डूब क्षेत्र में है जिस पर उन्होंने धान कि फसल उगाई थी और अब जब वे अपनी फसल को काटकर उसे ट्रैक्टर लेकर उठाने खेत पर जाते हैं तो डूंगरिया क्षेत्र के लगभग 75 से 80 लोगों ने उन्हें घेर लिया और मारपीट पर उतर आए उनका कहना है कि धान की फसल तुम नहीं ले जा सकते क्योंकि तुमने अपनी जमीन का मुआवजा ले लिया है और हम बांध का केस लड़ रहे हैं उसका विरोध कर रहे है और अब यह जमीन तुम्हारी नहीं रही इसलिए अब हम तुम्हारी इन फसलों को बेच कर सरकार से केस लड़ेंगे।

घटना की 11 नवंबर 2020 की बताई जाती है। इस संबंध में आवेदक चतुर सिंह पिता गोकल सिंह ने अपना आवेदन पुलिस अधीक्षक, जिला कलेक्टर, एसडीएम सहित समनापुर थाने को भी दिया है किंतु अब तक कोई कार्यवाही नहीं हुई तथा उनकी उनके द्वारा लगाई गई फसल काटने के बाद जोर पूर्वक गांव के लोगों द्वारा ले जाई गई और उन्हें जान से मारने की धमकी भी दी है।

आवेदक ने अपनी शिकायत में इस तरह की घटना करने वालों की नामजद शिकायत की है किंतु प्रशासन के द्वारा अभी तक कोई कार्यवाही नहीं किए जाने से इस तरह की घटना अंजाम देने वाले वे लोग जो बांध का विरोध कर रहे हैं और जिन्हें अपनी भूमि का मुआवजा अभी नहीं लिया है, उनके हौसले बुलंद है और अन्य सभी किसानों के साथ यही रवैया अपना रहे हैं पुलिस द्वारा भी अभी तक कोई कार्यवाही नहीं की गई है।

आवेदक की भूमि डूब क्षेत्र में आती है और उसके द्वारा अपनी भूमि का मुआवजा ले लिया गया है किंतु अभी तक बांध निर्माण कार्य चालू नहीं हुआ है जिसके चलते उनके द्वारा उक्त भूमि पर फिलहाल कृषि कार्य किया जा रहा था और इस पर प्रशासन अथवा जल संसाधन विभाग को भी  कोई आपत्ति नहीं थी। किंतु बांध निर्माण का विरोध करने वाले तत्वों के हौसले इतने बढ़ गए हैं कि वे खुलेआम लूट पाट पर उतर आए है एक ओर ग्रामीण बांध निर्माण का विरोध और प्रशासन से विवाद करते रहे है वहीं अब पूरी तरह पर अराजकता पर उतर आए है जिससे क्षेत्र में माहौल बिगड़ रहा है और इस पूरे क्षेत्र में जिन किसानों ने अपने खेतों में फसल बोई थी वे भी दहशत में है।

खुले आम आराजकता

प्राप्त जानकारी के अनुसार अंडई और उमरिया हार में ऐसे लगभग 20 किसान है जिनके खेत में लगी धान की फसल को गांव के लोगों के द्वारा काटा जा रहा है और जमीन के वास्तविक किसानों को मारपीट की धमकी दी जा रही है खेतों पर मौजूद लोग लट्ठ आदि ले कर तैनात है और खेतों में खड़ी फसल काट कर ले जाई जा रही है।

Live Cricket Live Share Market

Check Also

आम रास्ता अवरुद्ध किए जाने से परेशान हैं ग्रामवासी

🔊 Listen to this जनपथ टुडे, डिंडोरी, 29 नवंबर 2020, कुछ माह पूर्व हुए एक …